अनिवासी भारतीय सेवाए
अनिवासी सामान्य खाता
अनिवासी विदेशी खाता एफ.सी.एन.आर. खाता आर.एफ.सी. खाता आवक विप्रेषण केन्द्र Remit2India

अनिवासी भारतीय खाते

  • आप रूपी चेकिंग खाते यथा रूपी बचत खाता या रूपी चालू खाता और रूपी मियादी जमा खाता खोल सकते हैं यह खाता भारतीय रूपयों में रखा जाएगा।
  • अनिवासी भारतीय और भारतीय मूल के व्यक्ति इस प्रकार के खाते खोल सकते हैं।
  • जब आप अनिवासी बनते हैं, तो आपके अनिवासी बनने से पूर्व के आपके रूपी खाते अनिवासी सामान्य खाते के रूप में नामित हो जाते हैं. ये खाते उन अनिवसी भारतीयों के लिए हैं जिन्हे अपने स्थानीय देयों जैसे संपत्ति से प्राप्त किराया आदि जमा करने के लिए खाते की आवश्यकता होती है।

खातों के प्रकार

इस योजना के अंतर्गत सभी प्रकार के खाते जैसे चालू, बचत, आवर्ति और मीयादी जमा खाता खोले जा सकते हैं।

  • संयुक्त खाता :
    यह खाता निवासी और/या अनिवासी भारतीय के साथ संयुक्त रूप से खोला जा सकता है।
  • • खाता खोलना :
    खाता निम्नलिखित निधियों से खोला जा सकता है:
    • विदेश से धनप्रेषण
    • खाताधारक की अल्पकालिक भेंट के दौरान विदेशी मुद्रा/नोटों/यात्री चेकों के आगम
    • ड्राफ्ट/वैयक्तिक चेकों के आगम
    • उसी व्यक्ति के विद्यमान एफसीएनआर/ एनआरई खातों से अंतरण
    • रूपए में वास्तविक संव्यवहारों को प्रस्तुत करने वाले स्थानीय स्रोतों से निधियाँ
  • • निम्नलिखित मामलों को छोड़कर इन खातों में धारित निधियाँ अप्रत्यावर्तनीय हैं – :
    • उनके बच्चों की शिक्षा से संबंधित व्यय को पूरा करने के लिए यूएसडॉलर30,000/- तक प्रति शैक्षणिक वर्ष
    • खाताधारक या उसके परिवारजनों के विदेश में चिकित्सा खर्चों को पूरा करने के लिए यूएसडॉलर1,00,000/-तक
    • उनके द्वारा 10 वर्ष से अधिक की अवधि के लिए धारित अचल संपत्तियों के विक्रय आगमोंको दर्शानेवाला यूएसडॉलर1,00,000/- प्रति वर्ष तक
    • वर्तमान आय जैसे किराया, लाभांश, पेंशन, ब्याज इत्यादि, लागू करों का निवल

अनुमत जमा

खाताधारक के भारत में पात्र देयों या अंतरणों या भारत में उसके अस्थायी दौरे के समय खाताधारक द्वारा प्रस्तुत विदेशी मुद्रा नोटों या सामान्य बैंकिंग चैनलों के माध्यम से भारत के बाहर से प्राप्त धनप्रेषणों से आय।

अनुमत नामे

  1. निवेशों के लिए भुगतान सहित सभी स्थानीय भुगतान, भारतीय रिजर्व बैंक के विनियमों के अनुपालन के अध्यधीन
  2. प्रयोज्य करों का निवल, भारत में वर्तमान आय का भारत से बाहर विप्रेषण।

ब्याज दर

इन खातों पर ब्याज दरें घरेलू दरों के समान ही हैं।

आयकर

इन जमाराशियों पर अर्जित ब्याज, प्रचलित दरों पर आयकर की स्रोत पर कटौती के अध्यधीन है।

Maharashtra Bank - One Family One Bank
Insurance Products
गृहकर्जाकरिता "डायरेक्ट सेलिंग एजन्ट/डीएसए"
उद्यमी मित्र
एनआरआई ग्राहक ध्यान दें
Car Dealers Tie-up Form
MAHA e-PAY
Reservation Roster
इंटिग्रिटी प्लेज सीव्हीसी तर्फे
शाखा शोधा (लोकेट करा)/ एटीएम
OTS Settlement Request
बँकेचे विलफुल डिफॉल्टर्स
विशेष शाखा की सूची

User Manual - UPI
क्या आपका खाता "अपने ग्राहक को जाने" ( केवायसी ) अनुपालन युक्त है?
Complaints / Grievances / Suggestions
Revised Marginal Cost of Funds Based Lending Rate (MCLR) with effect from 07.10.2018

Rupay Debit Card Offers

01.02.2016 की अधिसूचना के सेवा प्रभारों में 01.08.2017 से संशोधन

01.07.2017 से एसएमएस प्रभार

अंतरराष्ट्रीय डेबिट कार्ड के बार-बार पूछे जानेवाले प्रश्न

थोड़ी सी अतिरिक्त सावधानी आपके ऑनलाईन संव्यवहारों को अधिक सुरक्षित करती है

खाता पोर्टेबिलिटी: बैंक में एक शाखा से दूसरी शाखा में खाते का स्थानांतरण

ग्राहकों के प्रति बैंक की वचनबद्धता का कूट

पीपीएफ खाता खोलने के लिए प्राधिकृत शाखाओं की सूची

भारिबैं मौद्रिक संग्रहालय – भारतीय रिज़र्व बैंक

संग्रहालय के संबंध में सामान्य जानकारी
विशेष शाखा की सूची
महत्‍वपूर्ण : बैंक ऑफ महाराष्‍ट्र फोन कॉल/ई मेल/एसएमएस के माध्‍यम से किसी भी उद्देश्‍य के लिए बैंक खाते के ब्‍यौरों की मांग कभी नहीं करता।

बैंक अपने सभी ग्राहकों से अपील करता है कि ऐसे फोन कॉल/ ई मेल/एसएमएस का उत्‍तर न दें और किसी भी उद्देश्‍य से किसी से भी अपने बैंक खाते के ब्‍यौरे साझा न करे। किसी से न भी अपने डेबिट/क्रेडिट कार्ड का सीवीवी/प्रिंट साझा न करे।