Menu Icon
Search Icon
; Menu Close Button

सामाजिक उत्तरदायित्व

पुणे, 17 अप्रैल, 2020: बैंक ऑफ महाराष्ट्र के कर्मचारियों ने नोवेल कोरोना वायरस के कारण वर्तमान में दुनिया के सामने आने वाली COVID-19 से लड़ने में 5.00 करोड़ रुपये (पांच करोड़ रुपये) दान किए।

पुणे, 13 दिसंबर, 2019: मुंबई के मंत्रालय में बैंक ऑफ़ महाराष्ट्र के कर्मचारियों ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री राहत कोष की ओर एक दिन के वेतन योगदान दिया। श्री वी एन कांबले, महाप्रबंधक और जोनल मैनेजर, मुंबई ज़ोन, बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने 2,35,00,000 / - (दो करोड़ पैंतीस लाख केवल) रुपये का चेक महाराष्ट्र राज्य के माननीय मुख्यमंत्री जी श्री उद्धव ठाकरे को सौंपा।

15 अगस्त 2019: पुणे के अनाथालय - पुणे विद्यार्थी गृह के स्कूली बच्चों को इस 73 वें स्वतंत्रता दिवस समारोह में विशेष आमंत्रित किया गया था। स्कूल बैग, बाथिंग किट, लेखन सामग्री और अन्य उपहार पुणे के छात्रों को माननीय एमडी और सीईओ श्री ए एस राजीव सर के हाथों बांटा गए।

10 अगस्त 2019: बैंक ऑफ महाराष्ट्र के कर्मचारियों ने शुक्रवार को 3 मई से ओडिशा तट पर आने वाले चक्रवात "फानी" के लिए चल रही राहत और बहाली कार्य के लिए ओडिशा के मुख्यमंत्री राहत कोष (CMRF) में 2,13,66,295 रुपये का योगदान दिया। बैंक की कार्यकारी निदेशक ए सी राउत ने चेक को माननीय मुख्य नवीन पटनायक को सौंप दिया

बैंक के कार्यकारी निदेशक श्री हेमंत टम्टा सर के हाथों से सतारा, महाराष्ट्र बाढ़ राहत और बाढ़ प्रभावित जरूरतमंद लोगों को भोजन के पैकेट, कंबल आदि का वितरण किया गया।

तिरुवनंतपुरम, 25.10.2018:  सामाजिक जिम्मेदारी को ध्यान में रखते हुए, बैंक ऑफ महाराष्ट्र के कर्मचारियों ने बाढ़ प्रभावित नागरिकों के लिए स्थापित केरल के मुख्यमंत्री संकट राहत कोष के लिए अपने एक दिन के वेतन का योगदान दिया।. बैंक ऑफ महाराष्ट्र के कार्यकारी निदेशक श्री ए। सी। राउत ने 25/10/2018 को केरल के तिरुवनंतपुरम में आयोजित एक समारोह में बाढ़ राहत कोष के लिए केरल के माननीय मुख्यमंत्री श्री पिनारायी विजयन को रुपये 2,39,02,192 (दो करोड़ उनतालीस लाख दो हजार एक सौ बानवे) का चेक सौंपा। श्री राजेश कुमार सिंह, जोनल मैनेजर, चेन्नई ज़ोन के साथ-साथ बैंक अधिकारी भी इस समारोह के लिए उपस्थित थे।

बैंक ऑफ महाराष्ट्र और स्टाफ सदस्यों ने साथ मिलकर नाम फाउंडेशन को रु.21 लाख का दान किया। बैंक ऑफ महाराष्ट्र के प्रधान कार्यालय, लोकमंगल, पुणे में महाप्रबंधक आईटी श्री नरेन्द्र काबरा, बैंक ऑफ महाराष्ट्र के सेवानिवृत्त स्टाफ में से श्री सुरेश नांगरे के साथ श्री सुधाकर धोडपकर ने NAAM फाउंडेशन को कुल रु.21 लाख के दो चेक दिए। इस अवसर पर बैंक के महाप्रबंधक श्री राजकिरण भोईर, श्री एम सी कुलकर्णी और श्री मनोज बिस्वाल उपस्थित थे। नाना पाटेकर और मकरंद अनासपुरे द्वारा शुरू की गई नाम संस्था महाराष्ट्र के मराठवाड़ा और विदर्भ के सूखा प्रवण क्षेत्रों में किसानों की उन्नति की दिशा में काम करती है।

बैंक ऑफ महाराष्ट्र की ओर से कार्यपालक निदेशक श्री आर. के. गुप्ता ने "राष्ट्रीय खेल विकास निधि" हेतु रु.10,00,000 / - (दस लाख) के अंशदान का चेक श्री राजीव यादव, खेल सचिव को सौंपा। समारोह में अंचल प्रबंधक, दिल्ली अंचल श्री सी के वर्मा भी मौजूद थे।

बैंक ऑफ महाराष्ट्र के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक श्री एस मुहनोत और कार्यपालक निदेशक श्री आर. के. गुप्ता ने 3 जून 2015 को सीएसआर योगदान राहत निधि के रूप में माननीय वित्त मंत्री श्री अरुण जेटली को रु.1.25 करोड़ रुपये का चेक सौंपा।

बैंक ऑफ महाराष्ट्र के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक श्री एस मुहनोत और कार्यपालक निदेशक श्री आर. के. गुप्ता ने 3 जून 2015 को सीएसआर योगदान राहत निधि के रूप में माननीय वित्त मंत्री श्री अरुण जेटली को रु.1.25 करोड़ रुपये का चेक सौंपा।

बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने सीएसआर गतिविधियों के तहत मालिन गांव को खाद्य, पेयजल और चिकित्सा किट दान किए। फोटो में: श्री आर. के. गुप्ता, कार्यपालक निदेशक (दाएं से चौथे) और श्री एस. भरतकुमार, महाप्रबंधक, संसाधन आयोजना (बाएं से तीसरे) मालिन गांव के लिए सामग्री प्रदान करते हुए।

महाराष्ट्र साहित्य परिषद द्वारा आयोजित 87 वें सम्मेलन 2014 का प्रायोजन बैंक आफ महाराष्ट्र द्वारा किया जाएगा। बैंक के कार्यपालक निदेशक श्री आर. आत्माराम ने श्री विजय कोल्ते, अध्यक्ष को रु.3,00,000/- (रुपये तीन लाख) का प्रायोजन चेक सौंपा।।

बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने श्री अपंग विकास मंडल सासवड को रु.2.00 लाख का दान दिया। मंडल पुणे जिले के दीवे में विशेष बच्चों के लिए जीवन वर्धिनी मतीमंद निवास विद्यालय नामक एक आवासीय स्कूल चलाता है। दान की गई राशि स्कूल भवन के निर्माण के लिए उपयोग की जाएगी। फोटो (बाएं से दाएं): श्री बालासाहेब झेंडे, संस्थापक, श्री अपंग विकास मंडल सासवड, श्री शशिकांत मुकिम, शाखा प्रबंधक, सासवड शाखा, श्री एस. भरतकुमार, महाप्रबंधक, आयोजना, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, श्री संजय रुद्र, अंचल प्रबंधक, पुणे पूर्व अंचल, बैंक ऑफ महाराष्ट्र।

सूखा राहत के लिए बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने मुख्यमंत्री राहत निधि (सूखा - 2013) को रु. 251.00 लाख का योगदान दिया। श्री नरेंद्र सिंह, अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, श्री पृथ्वीराज चव्हाण, महाराष्ट्र के माननीय मुख्यमंत्री, श्री पी एम खान, महाप्रबंधक, मुंबई शहर अंचल

फोटो में (बाएं से दाएं) – श्री एस. भरतकुमार, महाप्रबंधक, आयोजना, श्री नरेन्द्र सिंह, अध्यक्ष व प्रबंध निदेशक, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, श्री पृथ्वीराज चव्हाण, माननीय मुख्यमंत्री, महाराष्ट्र, श्री पी.एम. खान, महाप्रबंधक, मुंबई शहर अंचल।

अध्यक्ष व प्रबंध निदेशक श्री नरेन्द्र सिंह तथा कार्यपालक निदेशक श्री सी.वीआर. राजेन्द्रन महाबैंक मेधावी छात्रवृत्ति अवार्ड प्राप्त दो छात्राओं सुश्री पायल विलास चवट (वरवंद, जिला पुणे) तथा सुश्री ईशा अनिरूद्ध पाटनकर, जिन्होने क्रमशः 100% तथा 98.4% अंक प्राप्त किए, तथा उनके माता-पिता को सम्मानित करते हुए.

अमरावती अंचल से जिला परिषद गर्ल्‍स प्राइमरी स्‍कूल को सीएसआर गतिविधि के एक हिस्‍से के रूप में लोनी (वरुड) शाखा, अमरावती अंचल के शाखा प्रबंधक द्वारा पंखा प्रदान किया गया। 551 सरकारी प्राथमिक विद्यालयों को स्वच्छता और बुनियादी सुविधाओं में सुधार के लिए बैंक ने 15000 /- रुपये दान किए हैं।

बाराबंकी जिला, यूपी के लिए, सीएसआर गतिविधियों के तहत सोलर स्ट्रीट लाइट का अंशदान
हडपसर और भिगवण में बैंक के ग्रामीण विकास केंद्र, किसानों के लाभ के लिए विभिन्न विकासात्मक गतिविधियों का आयोजन कर रहे हैं। लैब टू लैंड प्रोजेक्ट, खारी मिट्टी का पुन: उपयोग / पुनर्वास और इष्टतम परिणामों के लिए इनपुट के वैज्ञानिक उपयोग पर परामर्श।
महाबैंक कृषि अनुसंधान और ग्रामीण विकास फाउंडेशन (एमएआरडीईएफ) किसानों को बकरी पालन, अंगूर की खेती, बागवानी और उर्वरकों जैसे विभिन्न इनपुटों उपयोग को प्रोत्साहित करके गांवों के सामाजिक-आर्थिक विकास में सक्रिय है। किसानों को, खासकर छोटे और सीमांत किसानों को समय पर बैंक ऋण प्राप्त करने में सहायता करता है। बैंक ने पुणे, औरंगाबाद, नागपुर, नासिक और अमरावती में पांच महाबैंक स्व रोजगार प्रशिक्षण संस्थान (एमएसईटीआई) की स्थापना की है। ये ग्रामीण युवाओं और महिलाओं को स्व रोजगार के लिए प्रशिक्षण प्रदान करते हैं। संस्थानों द्वारा अब तक कुल 4605 उम्मीदवारों को प्रशिक्षित किया गया है।

एमएसईटीआई वार्षिक प्रशिक्षण अनुसूची

बैंक ऑफ महाराष्ट्र द्वारा 1989 में गठित ग्रामीण महिला वा बालक विकास मंडळ ( जी. एम. व्ही. बी. व्ही. एम. ) नामक गैर-सरकारी संस्था; स्व-सहायता समूह ( एस. एच. जी. ) के गठन, पालन तथा बैंक ऋण के साथ सुविधाजनक संयोजन में सक्रिय रूप से जुटी हुई है। ग्रामीण महिला वा बालक विकास मंडल इन स्व-सहायता समूहों को पुणे शहर में “सावित्री” के नाम से दो बिक्री केन्द्रों द्वारा उनके उत्पादन बेचने में मदद करता है।
ग्रामीण महिला वा बालक विकास मंडल. इन स्व-सहायता समूहों को उनके उत्पादन के लिए अच्छे स्तर का कच्चा माल और निविष्टियाँ प्राप्त करने एवं विपणन तथा बिक्री सहायता देने में मदद करता है। बेहतर एस.एच.जी को छोटे और मध्यम उद्यम में परिवर्तित होने में मदद की जाती है। जी. एम. व्ही. बी. व्ही. एम. को महाराष्ट्र सरकार द्वारा मदर एन. जी. ओ. के रूप में घोषित किया गया है।
बैंक ऑफ महाराष्ट और हनुमान व्यायाम प्रसारक मंडळ का संयुक्त प्रयास; महाबैंक विदर्भ शेतकरी जागृति अभियान विदर्भ के छह ज़िलों के 5750 से अधिक आपत्तिग्रस्त किसानों तक सलाह एवं प्रशिक्षण सत्रों के ज़रिये पहुँच पाया है।

बैंक ऑफ महाराष्ट्र और हनुमान व्ययाम प्रचार मंडल के संयुक्त प्रयास से महाभारत विदर्भ शेतकरी जागृति अभियान, काउंसलिंग और प्रशिक्षण सत्रों के माध्यम से विदर्भ के छह जिलों में 5750 से अधिक किसानों तक पहुंचा है।