प्रत्यक्ष नकदी हस्तांतरण के लिए उत्तरदायी केंद्रीय क्षेत्र / केन्द्र प्रायोजित योजनाओं की सूची

अनु क्रमांकमंत्रालय / विभागयोजनाओं की संख्यायोजना का नामविवरण
1सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय121अ.जा. छात्रों के लिए पोस्ट मैटिक छात्रवृत्तिइस योजना का मकसद अनुसूचित जाति के छात्रों को अपनी पढ़ाई पूरी करने के लिए पोस्ट मैट्रिक या पूर्व माध्यमिक स्तर परपढ़ाई करने के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करना है। छात्रवृत्तियां उन विद्यार्थियों को दी जाएगी जिनके माता-पिता की सभी स्रोतों से आय रु.2,00,000/- (केवल दो लाख रुपए) प्रतिवर्ष है
   2अ.जा. छात्रों के लिए पूर्व मैट्रिक छात्रवृत्तिअनुसूचित जाति के बच्चों के माता-पिता अपने कक्षा IX और X में पढ़नेवाले बच्चों की शिक्षा का समर्थन करें, ताकि पढ़ाई छोड़ने की घटनाएं – विशेष रूप से प्राथमिक से माध्यमिक स्तर तक, कम से कम हो और अनुसूचित जाति की भागीदारी में सुधार जिससे कक्षा IX और मैट्रिक स्तर पर वे अच्छा प्रदर्शन कर सकें और उन्हें शिक्षा के मैट्रिक पश्चात चरण में प्रगति करने का बेहतर मौका मिल सके।
   3अस्वच्छ व्यवसाय में लगे लोगों के लिए पूर्व मैट्रिक छात्रवृत्तियह योजना उन बच्चों को वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए है जिनके माता-पिता / अभिभावक निम्नलिखित श्रेणियों में से एक हैं i. जो व्यक्ति या तो वर्तमान में मैनुअल स्केवेन्जिंग में लगे हुए हैं या 1.1.97 के बाद या जिस तारीख को "मैनुअल स्केवेंजर्स का रोजगार और सूखी शौचालयों का निर्माण (निषेध) अधिनियम 1 99 3" उनके राज्य / संघ शासित प्रदेशों में लागू किया गया, उससे जुड़े हुए हैं या जो भी पहले हो; ii) टैनर्स; और iii) फ्लेयर्स
   4अनुसूचित जाति के विद्यार्थियों की योग्यता का उन्नयनइस योजना के अंतर्गत 9 / 12वीं कक्षा में पढ़ाई वाले अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के छात्रों के लिए कोचिंग की व्यवस्था के लिए 100% केंद्रीय सहायता राज्यों /संघशासित प्रदेशों को प्रदान की जाती है।
क. उपचारात्मक कोचिंग - इसका उद्देश्य स्कूल के विषयों में कमियों को दूर करना है
ख. विशेष प्रशिक्षण - व्यावसायिक पाठ्यक्रमों में प्रवेश करने के लिए प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए छात्रों कोतैयार करना
यह योजना आवासीय विद्यालय में शिक्षा के माध्यम से संपूर्ण विकास के लिए सुविधाएं प्रदान करके एससी / एसटी छात्रों की योग्यता को उन्नत करना
A. उनकी शैक्षणिक कमी को दूर करना B. अपनी योग्यता को उन्नत करके व्यावसायिक पाठ्यक्रमों में अपनी प्रविष्टि को सुगम बनाना ताकि वे पूरा कर सकें। C. उच्च शिक्षा पाठ्यक्रमों में प्रवेश लें D. आत्मविश्वास उत्पन्न किया जाए
   5अनुसूचित जाति के छात्रों के लिए राष्ट्रीय प्रवासी छात्रवृत्ति योजनाएंयह योजना अध्ययन के निम्नलिखित विशिष्ट क्षेत्रों में विदेश में मास्टर स्तर के पाठ्यक्रमों और पीएचडी करने के लिए अंत में चयनित उम्मीदवारों को वित्तीय सहायता प्रदान करती है
  1. इंजीनियरिंग ख. प्रबंधन ग. प्योर साइंस घ. कृषि विज्ञान ञ. चिकित्सा
   6ओबीसी के लिए पोस्ट मैटिक छात्रवृत्तियह योजना ओबीसी छात्रों को अपनी शिक्षा पूरी करने के लिए सक्षम करने के बाद मैट्रिक पश्चात या सेकेंडरी पश्चात चरण में पढ़ाई करने के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करना है
   7ओबीसी के लिए राष्ट्रीय प्रवासी छात्रवृत्ति योजनाएंयह योजना अध्ययन के निम्नलिखित विशिष्ट क्षेत्रों में विदेश में मास्टर स्तर के पाठ्यक्रमों और पीएचडी करने के लिए अंतिम रूप से चयनित उम्मीदवारों को वित्तीय सहायता प्रदान करती है
  1. इंजीनियरिंग ख. प्रबंधन
    ग. प्योर साइंस घ. कृषि
    विज्ञान ञ. चिकित्सा
   8आर्थिक रूप से पिछड़े वर्ग के विद्यार्थियों के लिए पोस्ट मैटिक छात्रवृत्तिइस योजना का उद्देश्य बीसी छात्रों को अपनी शिक्षा पूरी करने के लिए सक्षम करने के बाद मैट्रिक या बाद के माध्यमिक चरण में पढ़ाई करने वाले छात्रों को वित्तीय सहायता प्रदान करना है। ये छात्रवृत्ति केवल भारत में अध्ययन के लिए उपलब्ध होगी और उस राज्य सरकार / संघ शासित प्रदेश सरकार द्वारा प्रदान की जाएगी । छात्रवृत्ति ओबीसी से संबंधित भारतीय नागरिकों के लिए खुली होगी, जैसा कि केंद्र सरकार / राज्य सरकार / संघ शासित प्रशासन द्वारा अधिसूचित है; मान्यता प्राप्त संस्थानों में मान्यता प्राप्त सभी पोस्ट मैट्रिक या पोस्ट सेकेंडरी पाठ्यक्रमों के अध्ययन के लिए ये छात्रवृत्ति दी जाएगी।
   9विकलांग छात्रों के लिए पोस्ट मैटिक छात्रवृत्तिइस योजना का उद्देश्य अनुसूचित जाति के छात्रों को अपनी शिक्षा पूरी करने के लिए पोस्ट मैट्रिक या उसके बाद माध्यमिक स्तर पर पढ़ाई करने के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करना है।
   10विकलांग व्यक्तियों के लिए राष्ट्रीय प्रवासी छात्रवृत्तियह योजना अध्ययन के निम्नलिखित विशिष्ट क्षेत्रों में विदेश में मास्टर स्तर के पाठ्यक्रमों और पीएचडी करने के लिए अंतिम रूप से चयनित उम्मीदवारों को वित्तीय सहायता प्रदान करती है
  1. इंजीनियरिंग ख. प्रबंधन
    ग. प्योर साइंस घ. कृषि
    विज्ञान ञ. चिकित्सा
   11विकलांग प्रावीण्यताप्राप्त छात्रों के लिए छात्रवृत्तिअक्षम व्यक्ति अधिनियम 1995 के अंतर्गत परिभाषआ के अनुसार कम से कम 40% विकलांगतावाले भारतीय छात्रों के लिए वित्तीय सहायता उपलब्ध है। यह पीएचडी /एमफिल आदि व्यावसायिक पाठ्यक्रम करने के लिए दिया जाता है।
हालांकि, सेरेब्रल पाल्सी, मानसिक मंदता, एकाधिक विकलांगता और गहरे या गंभीर कर्ण बधिर छात्रों के लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता 8 वीं कक्षा होगी और सामान्य, तकनीकी, व्यावसायिक या व्यावसायिक पाठ्यक्रम करने के लिए उन्हें छात्रवृत्ति प्रदान की जाएगी। केवल एक पाठ्यक्रम करने के लिए एक छात्र को छात्रवृत्ति प्रदान की जाती है।
   12शीर्ष शिक्षा योजनाकिसी भी संस्थान के अस्वीकरण / हटाए जाने की स्थिति में, छात्रवृत्ति योजना के पूरा होने तक पहले से ही इस योजना के तहत लिए गए एससी छात्रों के लिए उपलब्ध रहेगी। हालांकि, ऐसे अस्वीकृत संस्थानों को कोई भी सीट आवंटित नहीं की जाएगी और निधि जारी की जाएगी।
2मानव संसाधन विकास मंत्रालय, उच्च शिक्षा विभाग41विश्वविद्यालयों / कॉलेज छात्रों को छात्रवृत्तिकॉलेज और विश्वविद्यालय के छात्रों के लिए छात्रवृत्ति की केंद्रीय योजना:
इस योजना का उद्देश्य कम आय वर्ग के प्रावीण्यता प्राप्त विद्यार्थियों को उच्च शिक्षा प्राप्त करते हुए अपने दैनंदिन खर्चों के एक हिस्से को उठाने में सहायता करना है। छात्रवृत्ति उच्च माध्यमिक के परिणाम के आधार पर प्रदान की जाएगी।
प्रति वर्ष 82000 नई छात्रवृत्ति (41000 लड़कों के लिए और 41000 लड़कियों के लिए) कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में स्नातक / स्नातकोत्तर अध्ययन और व्यावसायिक पाठ्यक्रम जैसे मेडिकल, इंजीनियरिंग आदि के लिए प्रदान किए जाते हैं।
   2यूजीसी की फैलोशिप योजनाएंभारत सरकार ने वित्त वर्ष 2012-13 के दौरान राजीव गांधी राष्ट्रीय फैलोशिप कीशुरुआत की है ताकि विकलांग छात्रों को एम.फिल. व पी.एचडी. जैसी डिग्रियों हेतु उच्च अध्ययन के लिए अवसर बढ़ाए जा सकें। यह योजना 01.04.2012 से प्रभावी होगी।
यह योजना विश्वविद्यालयों, अनुसंधान संस्थानों और वैज्ञानिक संस्थानों में शोध की डिग्री के लिए विकलांग छात्रों की आवश्यकताओं को पूरा करती है। इससे न केवल उन्हें विभिन्न कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में व्याख्याताओं के रिक्त पदों के लिए रोजगार के योग्य होने में सक्षम बनाएगा बल्कि उन्हें नए आर्थिक आदेश के संदर्भ में राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बढ़ते अवसरों का प्रभावी ढंग से लाभ उठाने के लिए तैयार किया जाएगा।
   3एआईसीटीई की फैलोशिप योजनाएंऑल इंडिया काउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन (एआईसीटीई) राष्ट्रीय डॉक्टोरल फैलोशिप योजना प्रस्तुत की है।
इस योजना के तहत 50 डॉक्टरल फैलोशिप, डॉक्टरेट कार्यक्रम को आगे बढ़ाने के लिए एआईसीटीई द्वारा उभरते क्षेत्रों / तकनीकी शिक्षा के विषयों में चयनित उम्मीदवारों के लिए हर साल प्रस्तावित की जाती हैं। इसका उद्देश्य उच्च शिक्षित और योग्य उम्मीदवारों को डॉक्टरेट की डिग्री हासिल करने और तकनीकी शिक्षा प्रणाली में पढ़ाई के लिए खुद को तैयार करने और तकनीकी शिक्षा के क्षेत्र में अभिनव अनुसंधान के लिए युवा उम्मीदवारों को अनुसंधान सहायता प्रदान करना है।
छात्रवृत्ति @ 12,000 / - प्रति माह प्रति उम्मीदवार|
प्रति उम्मीदवार प्रति वर्ष 25,000 / - का आकस्मिक अनुदान
20,000 / - रुपये प्रति उम्मीदवार प्रति मेजबान संस्थान, जहां उम्मीदवार पीएचडी डॉक्टरेट कार्यक्रम करेगा। उपर्युक्त छात्रवृत्ति 3 साल की अवधि के लिए दी जाएगी।
   4छात्रों को शुल्क पर सब्सिडीइस योजना का उद्देश्य भारतीय बैंक संघ की शैक्षिक ऋण योजना के अंतर्गत अनुसूचित बैंकों के आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के छात्रों द्वारा लिए गए ऋणों पर अधिस्थगन अवधि के दौरान पूर्ण ब्याज सब्सिडी प्रदान करना है, भारत में मान्यता प्राप्त संस्थानों से तकनीकी और अनुदानित पाठ्यक्रमों में अध्ययन
3मानव संसाधन विकास मंत्रालय
शालेय शिक्षा व साक्षरता विभाग
21राष्ट्रीय साधन सह मेरिट छात्रवृत्तिमानव संसाधन विकास मंत्रालय ने 2008-09 में एक केन्द्रीय प्रायोजित राष्ट्रीय साधन सह योग्यता छात्रवृत्ति योजना आरंभ की, जो कि आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के मेधावी छात्रों को कक्षा आठवीं फेल और उन्हें अपनी पढ़ाई जारी रखने के लिए प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से छात्रवृत्ति प्रदान करने के लिए शुरू की गई थी। माध्यमिक स्तर पर विभिन्न राज्यों / संघ शासित प्रदेशों के लिए छात्रवृत्ति का एक कोटा है|
   2माध्यमिक शिक्षा के लिए छात्राओं के लिए प्रोत्साहन हेतु राष्ट्रीय योजना01.04.2013 से 51 जिलों में प्रत्यक्ष नकद अंतरण के आरंभ के साथ, संबंधित विभागों को आधार और बैंक खाता संख्या के साथ लाभार्थियों के डेटा को अंतिम रूप देने की आवश्यकता होगी, जैसा भी मामला हो। लाभार्थी डेटा बेस तैयार करने के साथ ही प्रेषण सलाह तैयार करने के लिए इसका उपयोग सेंट्रल प्लान स्कीम मॉनिटरिंग सिस्टम (सीपीएसएमएस) के साथ किया जाएगा।
4जनजाति मामले मंत्रालय51अनुसूचित जनजाति के छात्रों के लिए राष्ट्रीय विदेशी छात्रवृत्तियह योजना, परास्नातक स्तर पर कुछ विषयों में विदेशों में उच्च शिक्षा के लिए चयनित छात्रों और पीएचडी और पोस्ट-डॉक्टरल अनुसंधान कार्यक्रमों के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करतीहै
किसी भी विषय में स्नातक स्तर के पाठ्यक्रम इस योजना के तहत शामिल नहीं हैं। अनुसूचित जनजाति के विद्यार्षॉथियों को प्रतिवर्ष 15 अवार्ड्स को मंजूरी दी जाएगी।
   2पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति योजनाकेंद्रीय बजट 2005-06 में अपने बजट अभिभाषण में वित्त मंत्री ने निम्नलिखित घोषणाएं की
अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों को सशक्त बनाने की कुंजी मेधावी छात्रों को उच्च श्रेणी के शिक्षा के अवसर प्रदान करना है। केंद्रीय योजना के तहत अनुसूचित जाति/ जनजाति के छात्रों के लिए जारी छात्रवृत्ति योजनाएं हैं – प्री-मैट्रिक, पोस्ट-मैट्रिक, मैरिट-आधार पर जारी रहेगी। वर्धित इंसेंटिव प्रदान करने के लिए उन्होंने एक नया मार्ग प्रस्तावित किया है – उत्कृष्टता संस्थानों की शॉर्ट लिस्ट अधिसूचित की जाएगी और जो अनुसूचित जाति/ जनजाति का विद्यार्थी इन संस्थानों में प्रवेश लेता है उसे ट्यूशन फी, किताबों और कंप्यूटर के लिए छात्रवृत्ति प्रदान की जाएगी।
   3मेरिट योजना का उन्नयनअनुसूचित जनजाति के छात्र, उनकी शैक्षणिक कमी के कारण, विभिन्न अवसरों का लाभ लेने में असमर्थ हैं, जो अब सीटों के आरक्षण के माध्यम से उपलब्ध हो गए हैं। नतीजतन, उनके लिए तकनीकी और व्यावसायिक पाठ्यक्रम जैसे इंजीनियरिंग और मेडिकल के लिए आरक्षित कोटा कम उपयोग किया जाता है। कुछ छात्र जो इस पाठ्यक्रम में प्रवेश प्राप्त करने में सक्षम हैं, छूट योग्यता शर्तों के साथ, अक्सर यह मुश्किल होता है कि वे या तो पाठ्यक्रम पूरा करें या वे निर्देशात्मक कार्यक्रम को पूरा करने के लिए निर्दिष्ट समय से अधिक समय लेते हैं। उनकी अपर्याप्त शैक्षिक तैयारी उन व्यवसायों में रोजगार को अवरुद्ध करती है, जहां प्रवेश प्रतिस्पर्धी परीक्षाओं के आधार पर होता है।
   4उच्च स्तरीय शिक्षा प्रणालीकेंद्रीय बजट 2005-06 में अपने बजट अभिभाषण में वित्त मंत्री ने निम्नलिखित घोषणाएं की
अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों को सशक्त बनाने की कुंजी मेधावी छात्रों को उच्च श्रेणी के शिक्षा के अवसर प्रदान करना है। केंद्रीय योजना के तहत अनुसूचित जाति/ जनजाति के छात्रों के लिए जारी छात्रवृत्ति योजनाएं हैं – प्री-मैट्रिक, पोस्ट-मैट्रिक, मैरिट-आधार पर जारी रहेगी। वर्धित इंसेंटिव प्रदान करने के लिए उन्होंने एक नया मार्ग प्रस्तावित किया है – उत्कृष्टता संस्थानों की शॉर्ट लिस्ट अधिसूचित की जाएगी और जो अनुसूचित जाति/ जनजाति का विद्यार्थी इन संस्थानों में प्रवेश लेता है उसे ट्यूशन फी, किताबों और कंप्यूटर के लिए छात्रवृत्ति प्रदान की जाएगी।
   5राजीव गांधी राष्ट्रीय फैलोशिपयह योजना एसटी से संबंधित छात्रों को वित्तीय सहायता के रूप में फेलोशिप प्रदान करती है, जैसे एम फिल और पीएचडी
यह योजना यूजीसी अधिनियम की धारा 2 (एफ)के तहत विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा मान्यताप्राप्त सभी संस्थानों विश्वविद्यालयों को कवर करती है।
जनजातीय मामलों के मंत्रालय द्वारा अनुसूचित जनजाति के छात्रों के लिए इसे कार्यान्वित किया जाता है। आरजीएनएफ के तहत फेलोशिप, नियमित और पूर्णकालिक एम फिल और पीएचडी पाठ्यक्रम करनेवाले वाले अनुसंधान छात्रों को प्रदान की गई यूजीसी फैलोशिप के स्वरूप में है।
5अल्पसंख्यक मामले मंत्रालय31मैट्रिक छात्रवृत्ति योजनापूर्व- मैट्रिक स्तर पर छात्रवृत्ति अल्पसंख्यक समुदायों से स्कूली बच्चों को स्कूल
भेजने के लिए प्रोत्साहित करती है, शालेय शिक्षा के वित्तीय भार को कम करती है और शालेय शिक्षा पूरी करने में उनके बच्चों को सहयोग के उनके प्रयासों को स्थायी करती है।
यह योजना उनकी शैक्षिक नींव के लिए बनाई गई है और प्रतिस्पर्धी रोजगार में एक स्तर प्रदान करती है। शिक्षा के माध्यम से सशक्तिकरण और अल्पसंख्यक समुदायों की सामाजिक आर्थिक स्थितियों के उत्थान की एक संभावना है|
   2मौलाना आजाद नेशनल फैलोशिपफैलोशिप में एम फिल और पीएचडी जैसे उच्च अध्ययन करने के लिए अल्पसंख्यक समुदायों के छात्रों को वित्तीय सहायता के रूप में एकीकृत 5 वर्ष की फैलोशिप प्रदान करना है। फैलोशिप में विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा मान्यता प्राप्त सभी विश्वविद्यालयों / संस्थानों को शामिल किया जाएगा।
इसे यूजीसी अधिनियम की धारा 2 (एफ) और धारा 3 के तहत और अल्पसंख्यक समुदायों से संबंधित छात्रों के लिए यूजीसी के माध्यम से अल्पसंख्यक मामलों के मंत्रालय द्वारा कार्यान्वित किया गया है। अल्पसंख्यक छात्रों के लिए फेलोशिप, नियमित और पूर्णकालिक एम फिल और पीएचडी पाठ्यक्रम करने वाले अनुसंधान छात्रों को प्रदान की गई यूजीसी फैलोशिप के रूप में है।
   3मेरिट सह साधन स्कॉलरशिप योजनाइस योजना का उद्देश्य अल्पसंख्यक समुदायों के गरीब और योग्य छात्रों को वित्तीय सहायता प्रदान करना है ताकि वे पेशेवर और तकनीकी पाठ्यक्रमों में आगे अध्ययन कर सकें।
व्याप्ति : ये छात्रवृत्ति केवल भारत में पढ़ाई के लिए उपलब्ध है और इस उद्देश्य के लिए राज्य सरकार / संघ शासित प्रदेश प्रशासन द्वारा निर्दिष्ट एजेंसी के माध्यम से प्रदान किया जाएगा।
6महिला और बाल विकास मंत्रालय21इंदिरा गांधी मातृत्व सहयोग योजना (आईजीएमएसवाई)गर्भवती, स्तनपान कराने वाली महिलाओं और शिशुओं के स्वास्थ्य और पोषण स्थिति में सुधार के लिए:
i) गर्भावस्था के दौरान उचित व्यवहार, देखभाल और सेवा उपयोग को बढ़ावा देना, सुरक्षित प्रसूति और दुग्धपान
ii) महिलाओं को शुरुआती और छह महीनों के लिए स्तनपान सहित आईआईसीएफ प्रथाओं का पालन करने के लिए प्रोत्साहित करना
iii) गर्भवती और नर्सिंग माताओं को बेहतर स्वास्थ्य और पोषण के लिए नकद प्रोत्साहन प्रदान करके बेहतर सक्षम माहौल में योगदान करना|
   2धनलक्ष्मी योजनामहिलाओं और बच्चों के अधिकारों और मामलों को आगे बढ़ाने और समग्र रूप से उनके अस्तित्व, संरक्षण, विकास और भागीदारी को बढ़ावा देना मंत्रालय की बुनियादी जिम्मेदारी है।
महिलाओं और बच्चों के लिए राज्य कार्रवाई में अंतराल को पूरा करने और लैंगिक समानता और बाल-केंद्रित नीतियों, कार्यक्रमों, योजनाओं और कानून बनाने के लिए अंतर क्षेत्रीय / अंतर-मंत्रालय अभिसरण को बढ़ावा देने के मुख्य उद्देश्य से मंत्रालय का गठन किया गया।
7स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय11जननी सुरक्षा योजनाराष्ट्रीय मातृत्व लाभ योजना (एनएमबीएस) को जननी सुरक्षा योजना में संशोधित किया गया है। यह गर्भावस्था की अवधि, प्रसव के दौरान संस्थागत देखभाल और स्वास्थ्य केंद्र में तत्काल बाद, प्रसव अवधि के दौरान, जन्म के समय की देखभाल के साथ नकद सहायता को एकीकृत करता है, जिससे क्षेत्रीय स्तर के स्वास्थ्य कर्मचारी द्वारा समन्वित देखभाल की व्यवस्था की जाती है। जेएसवाई एक 100% केंद्र प्रायोजित योजना है। इसका उद्देश्य मातृ मृत्यु दर और शिशु मृत्यु दर को कम करना है और बीपीएल परिवारों में संस्थागत प्रसव को बढ़ावा देना है। इसका लक्ष्य समूह गरीबी रेखा के नीचे के परिवार से संबंधित 19 वर्ष आयु की और सभी गर्भवती महिलाएं हैं या दो जीवित प्रसव हों।
8श्रम और रोजगार मंत्रालय51बीड़ी कामगारों के बच्चों के लिए छात्रवृत्तिबीड़ी श्रमिकों के बच्चों को छात्रवृत्ति प्रदान करने की योजना बीड़ी कामगारों कल्याणकारी निधि अधिनियम, 1976 के तहत प्रदान की गई है
छात्र के माता या पिता बीड़ी वर्कर होना चाहिए। सभी स्रोतों से छात्रों के मातापिता की कुल आय 10,000 / - रुपये से अधिक नहीं होनी चाहिए जिसमें सभी भत्ते शामिल हैं। अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के छात्र के लिए, अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के प्रतिशत के आधार पर एक आरक्षण होगा।
सभी पात्रतमानदंडों को पूरा करने के लिए पाए गए कम से कम 10% आवेदन कल्याण आयुक्त द्वारा अनिवार्य रूप से सत्यापित किए गए हैं। हर साल नवंबर के अंत में, वह छात्रवृत्ति को मंजूरी देते हैं और ड्राफ्ट तैयार करने के लिए मान्यताप्राप्त बैंक को सूची भेजते हैं।
   2बीड़ी श्रमिकों को हाउसिंग सब्सिडीइस योजना का उद्देश्य मुख्य रूप से बीड़ी श्रमिकों के बीच आवास की कमी को कुछ हद तक राहत देना है।
40,000 / - प्रति कर्मचारी प्रति परिवार एक समान केन्द्रीय सबसिडी प्रदान की जाएगी। यह घर बीडी कार्यकर्ता द्वारा अपने परिवार के अन्य सदस्यों के साथ संयुक्त रूप से / अलग-अलगजमीन पर या राज्य सरकार / ग्राम सभा द्वारा वर्कर के नाम से क्लियर टाइटल के साथ जमीन हो।
भूमि पर भूमि क्षेत्र 60 स्क्वायर फीट से कम नहीं होना चाहिए। घर के निर्माण की न्यूनतम लागत 45,000 रुपये प्रति किराये होगी।
यदि घर की लागत 45,000 / - रुपये (रु.40000 सबसिडी + रु.5000 कर्मचारी का अंशदान) से अधिक हो जाती है, तो शेष राशि कर्मचारी द्वारा अपने संसाधनों या ऋण के रूप में सहायता के माध्यम से ली जाएगी जो हुडको इत्यादि जैसे वित्तीय संस्थान से सब्सिडी / ऋण, यदि कोई हो, के रूप में राज्य सरकारों से योगदान हो सकता है। योजना के तहत निर्माण के लिए 1.00 लाख रुपये तक लागत की आवासीय इकाई स्वीकार्य होगी।
   3बाल श्रम परियोजना के तहत विशेष स्कूलों में बच्चों के लिए छात्रवृत्तिबाल श्रम परियोजना का उद्देश्य अधिसूचित खतरनाक व्यवसायों और प्रक्रियाओं में काम करने वाले बच्चों को विशेष स्कूलों के माध्यम से बाहर निकालना और पुनर्वास करने का लक्ष्य है और अंत में उन्हें औपचारिक शिक्षा प्रणाली की मुख्यधारा में लाना होगा।
शिक्षा और व्यावसायिक प्रशिक्षण प्रदान करने के अलावा इन विशेष विद्यालयों को पौष्टिक भोजन, स्वास्थ्य देखभाल और मासिक छात्रवृत्ति, अनुपूरक आय के रूप में प्रदान करता है। विशेष स्कूल में प्रत्येक बच्चे को प्रति माह 100 रुपये की छात्रवृत्ति दी जानी चाहिए। बच्चे के नाम से पोस्ट ऑफिस/ बैंक में खोले गए बचत खाते में राशि जमा की जाएगी। मेनस्ट्रीमिंग के समय ही लाभार्थी द्वारा जमा राशि वापस ली जा सकती है।
   4स्थायी विकलांगता लाभ, आश्रित लाभ, बीमा व्यक्तियों और उनके परिवारों के लिए सिकनेस स्टेट बीमा निगम।--
   5पीएफ पेंशन निकासी, पेंशन की समयपूर्व निकासी, कर्मचारी जमा लिंक्ड बीमा से संबंधित भुगतान।--

 

 

सब्सिडी से संबंधित योजनाओं की सूची जो प्रत्यक्ष नकद अंतरण के लिए योग्य हैं

अनु क्रमांकमंत्रालय / विभागयोजनाओं की संख्यायोजना का नामविवरण
1एम / ओ पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस21घरेलू एलपीजी सब्सिडी योजना पीडीएस केरोसिन"पीडीएस मिट्टी के तेल और घरेलू एलपीजी सब्सिडी स्कीम" के अनुसार, प्रति सेलिंग सब्सिडी की दर सार्वजनिक क्षेत्र के तेल विपणन कंपनियों को दी जा रही है, जो कीमत की लागत और बिक्री मूल्य इकाई के बीच अंतर के बराबर होती है।
इस योजना के तहत सब्सिडी सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस केरोसिन) के तहत केरोसीन बिक्री और घरेलू उपयोग के लिए एलपीजी पर सिलेण्डर पर उपलब्ध कराई गई है।
पीडीएस केरोसिन की मात्रा जिस पर प्रत्येक राज्य में सब्सिडी की अनुमति दी जाती है, पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय द्वारा किए गए आवंटन तक सीमित है, जो कि वास्तविक मात्रा में बेचा जाता है। वर्तमान में, इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन लिमिटेड (आईओसीएल), हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (एचपीसीएल), भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड और आईबीपी कंपनी लिमटेड (आईबीपी) को योजना में शामिल होने की अनुमति है।
2खाद्य और सार्वजनिक वितरण11लक्षित सार्वजनिक वितरण प्रणाली (संघ राज्य )टीपीडीएस के तहत, राज्यों को उचित मूल्य की दुकानों (एफपीएस) को अनाज देने और एफपीएस स्तर पर पारदर्शी और जवाबदेह तरीके से वितरण के लिए गरीबों की पहचान के लिए निर्णायक व्यवस्था तैयार करने और लागू करने की आवश्यकता है।
जोर केवल समाज के वास्तव में गरीब और कमजोर वर्गों को शामिल करना है।
दिल्ली और लक्षद्वीप को छोड़कर सभी राज्यों / संघ शासित प्रदेशों ने टीपीडीएस लागू किया है। इसके ऊपर और उससे अधिक, पिछले 10 वर्षों में राज्यों की औसत वार्षिक छूट के आधार पर राज्यों को खाद्यान्नों का आवंटन किया जाता है।
गरीबी रेखा के ऊपर आबादी के लाभ के लिए प्रति परिवार प्रति माह 10 किलोग्राम की दर से बीपीएल आबादी की आवश्यकता की मात्रा दी जाती है।