Menu Icon
Search Icon
; Menu Close Button

बैंक की अवधि जमा योजना, 2006 *

आईटी अधिनियम, 1961 (1961 का 43) की 80 सी की उप-धारा (2) के तहत

इस योजना की मुख्य विशेषताएं:

एसआर क्रमांकपर्टिक्युलर्सडीटेल्स
1योजना का नामबैंक मीयादी जमा (संशोधन योजना), 2014' *
2पात्रताव्यक्तिगत या हिंदू अविभाजित परिवार
3जमाओं का कार्यकाल-5 साल की कर-बचत योजना
4ब्याज दरब्याज दर देखने के लिए यहां क्लिक करें
5जमाराशि के प्रकारजमा राशि को एमआईडीआर / क्यूआईडीआर / एफडीआर / सीडीआर में ब्याज भुगतान योजना के तहत स्वीकार किया जा सकता है
6निवेश की सीमाएंएक वर्ष में 1 अप्रैल से 31 मार्च तक की अधिकतम न्यूनतम रु .100 / - या उसके अधिकतम संख्या के साथ 150,000 रुपये।
7कर पहलूइन मीयादी जमाओं पर ब्याज, वार्षिक संचय या रसीद के आधार पर, अधिनियम के तहत कर के लिए दायी होगा, इन मीयादी जमाओं पर ब्याज के आधार पर निर्धारिती के बाद लेखांकन की विधि के तहत कर के लिए दायी होगा। इस तरह के ब्याज पर अधिनियम की धारा 194ए या अधिनियम 1951 के प्रावधानों के अनुसार कटौती की जाएगी।
8समयपूर्व निकासीअनुमति नहीं हैं। समाप्ति के पहले किसी भी मीयादी जमा का नकदीकरण नहीं किया जाएगा। किंतु ऐसे जमाधारक की मृत्यु होने पर जिसके संबंध में नामांकन लागू हो, नामांकित व्यक्ति, जमा राशि के परिपक्‍वता से पहले या उसके बाद किसी भी समय मीयादी जमा राशि का भुगतान प्राप्‍त करने के लिए हकदार होंगे।
9अंतरणीयता सुविधाबीओएम की एक शाखा से दूसरी शाखा में अंतरित किया जा सकता है, लेकिन किसी भी अन्य बैंक की शाखा में नहीं किया जा सकता है।
10नामांकन सुविधाबैंक में हमारी मौजूदा प्रथा के अनुसार उपलब्ध है लेकिन किसी नाबालिग के लिए या उसके द्वारा आवेदित या धारित मीयादी जमा के लिए कोई नामांकन नहीं किया जाएगा।
11ट्रेडिंग और बंधक रखनाअनुमति नहीं हैं। मीयादी जमा को ऋण की प्रतिभूति या अन्य किसी संपत्ति के प्रतिभूति के रूप में बंधक नहीं रखा जाएगा।
12जमा के विरुद्ध ऋणकिसी भी मामले में अनुमति नहीं है
13होल्डिंग का तरीका(1) (एक) एकल धारक प्रकार जमा; (बी) संयुक्त धारक प्रकार (2) (ए) एकल धारक प्रकार जमा रसीद किसी व्यक्ति को अपने लिए या हिंदू अविभाजित परिवार के कर्ता की क्षमता में जारी किया जाएगा। (बी) संयुक्त धारक प्रकार जमा रसीद संयुक्त रूप से दो वयस्कों के लिए या संयुक्त रूप से एक वयस्क और एक नाबालिग के लिए जारी की जा सकती है, और जो धारकों में से एक या उत्‍तरजीवी को देय होगा, बशर्ते कि संयुक्त धारक प्रकार की जमा राशि के मामले में, आय से कटौती अधिनियम की धारा 80 सी के तहत आय हीजमा के पहले धारक के लिए उपलब्ध होगी।
14खोए गए या नष्ट हुए अवधि के जमा रसीदों के प्रतिस्थापन-एक मीयादी जमा रसीद खो जाने, नष्ट हो जाने, विकृत हो जाने या विद्रपित हो जाने पर डुप्लिकेट रसीद जारी की जा सकती है और उस हेतु पात्र व्‍यक्ति डुप्लिकेट रसीद जारी करने के लिए बैंक की उस शाखा में आवेदन कर सकता है जहां से रसीद जारी की गई थी। ऐसे प्रत्येक आवेदन के साथ एक विवरण दिखाया जाएगा, जैसे नंबर, राशि और रसीद की तारीख, और ऐसे नुकसान, चोरी, विनाश, विघटन या विद्रूपण की परिस्थिति।