Last Visited Page  

एनआरओ खाता

अनिवासी सामान्य खाता

 

  • आप रूपी चेकिंग खाता यथा रूपी बचत खाता या रूपी चालू खाता और रूपी मीयादी जमा खाता खोल सकते हैं। यह खाता भारतीय रूपयों में रखा जाएगा।
  • अनिवासी भारतीय और भारतीय मूल के व्यक्ति इस प्रकार के खाते खोल सकते हैं।
  • जब आप अनिवासी बनते हैं, तो आपके अनिवासी बनने से पूर्व के आपके रूपी खाते अनिवासी सामान्य खाते के रूप में नामित हो जाते हैं। ये खाते उन अनिवासी भारतीयों के लिए हैं जिन्हें अपने स्थानीय देयों जैसे संपत्ति से प्राप्त किराया आदि जमा करने के लिए खाते की आवश्यकता होती है।

खातों के प्रकार

इस योजना के अंतर्गत सभी प्रकार के खाते जैसे चालू, बचत, आवर्ती और मीयादी जमा खाते खोले जा सकते हैं।

संयुक्त खाता :

संयुक्त खाते दो या अधिक एनआरआई और / या पीआईओ द्वारा या किसी निवासी रिश्तेदार (एस) के साथ एनआरआई / पीआईओ द्वारा खोले जा सकते हैं 'पूर्व या उत्तरजीवी' आधार हालांकि, एनआरआई / पीआईओ खाता धारक के जीवन काल के दौरान, निवासी रिश्तेदार खाता संचालित कर सकता है केवल पावर ऑफ अटॉर्नी धारक के रूप में।

खाता खोलना :

निम्नलिखित निधियों से खाता खोला जा सकता है:

  • विदेश से धनप्रेषण,
  • खाताधारक की अल्पकालिक भेंट के दौरान विदेशी मुद्रा/ नोटों/ यात्री चेकों के आगम,
  • ड्राफ्ट/ वैयक्तिक चेकों के आगम,
  • उसी व्यक्ति के विद्यमान एफसीएनआर/ एनआरई खातों से अंतरण,
  • रूपए में वास्तविक संव्यवहारों को प्रस्तुत करने वाले स्थानीय स्रोतों से निधियाँ,।

निम्नलिखित मामलों को छोड़कर इन खातों में धारित निधियां अप्रत्यावर्तनीय हैं –

  • उनके बच्चों की शिक्षा से संबंधित व्यय को पूरा करने के लिए यूएस डॉलर 30,000/- तक प्रति शैक्षणिक वर्ष
  • खाताधारक या उसके परिवारजनों के विदेश में चिकित्सा खर्चों को पूरा करने के लिए यूएस डॉलर 1,00,000/-तक
  • उनके द्वारा न्यूनतम 10 वर्ष से अधिक की अवधि के लिए धारित अचल संपत्तियों के विक्रय आगमों को दर्शानेवाला यूएस डॉलर 1,00,000/- प्रति वर्ष तक।
  • वर्तमान आय जैसे किराया, लाभांश, पेंशन, ब्याज इत्यादि, लागू करों का निवल।

अनुमत जमा

खाताधारक के भारत में पात्र देयों या अंतरणों या भारत में उसके अस्थायी दौरे के समय खाताधारक द्वारा प्रस्तुत विदेशी मुद्रा नोटों या सामान्य बैंकिंग चैनलों के माध्यम से भारत के बाहर से प्राप्त धनप्रेषणों से आय।

अनुमत नामे

  1. निवेशों के लिए भुगतान सहित सभी स्थानीय भुगतान, भारतीय रिजर्व बैंक के विनियमों के अनुपालन के अध्यधीन।
  2. प्रयोज्य करों का निवल, भारत में वर्तमान आय का भारत से बाहर विप्रेषण।

ब्याज दर

इन खातों पर ब्याज दरें घरेलू दरों के समान ही हैं।

आयकर

इन जमाराशियों पर अर्जित ब्याज, प्रचलित दरों पर आयकर की स्रोत पर कटौती के अध्यधीन है।